हालांकि रिमांड कितने दिन की मिलेगी, अभी इस पर कोर्ट में बहस चल रही है.

प्रयागराज: अतीक अहमद और अशरफ के तीनों हत्यारों की पुलिस रिमांड कोर्ट ने मंजूर कर ली है. हालांकि रिमांड कितने दिन की मिलेगी, अभी इस पर कोर्ट में बहस चल रही है.
मुंबई आशीष सिंह
एसआईटी की तरफ से कोर्ट में 14 दिन की कस्टडी रिमांड की अर्जी दी गई थी. अर्जी में हत्याकांड में शामिल दो अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही जरूरी साक्ष्य बरामद कराने की बात कही गई है. बताया ये भी जा रहा है कि आज रात में एसआईटी तीनों आरोपियों को हत्याकांड वाली जगह पर ले जाएगी, जहां सीन को रिक्रिएट करेगी.

सूत्र बताते हैं कि कोर्ट में तीनों आरोपियों पर हमले का इनपुट पुलिस को मिला था. इस वजह से पुलिस ने इसको लेकर तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था की थी, ताकि इन पर कोई हमला न हो सके. कोर्ट में सुरक्षा-व्यवस्था का अंदाजा इसी से आप लगा सकते हैं कि अतीक-अशरफ की पेशी के समय जितने पुलिसकर्मी कोर्ट में तैनात रहते थे, उससे कहीं ज्यादा इन आरोपियों की पेशी के समय पुलिसकर्मी कोर्ट में तैनात रहे.

7 गाड़ियों के काफिले के साथ प्रतापगढ़ से प्रयागराज पहुंची पुलिस

बता दें कि अतीक अहमद और अशरफ के तीनों हत्यारोपियों को प्रयागराज की अदालत में पेश करने के लिए पुलिस टीम उन्हें लेकर प्रतापगढ़ जेल से प्रयागराज के लिए आज सुबह निकली थी. तीनों आरोपियों पर हमले की आंशका के मद्देनजर उनकी सुरक्षा के लिए भारी भरकम पुलिस बल की तैनाती की गई थी. इन्हें सात गाड़ियों के काफिले में प्रतापगढ़ से प्रयागराज लाया गया, जहां इन्हें सीजेएम कोर्ट में दाखिल किया गया.
इस काफिले का नेतृत्व डीएसपी रैंक के अधिकारी कर रहे थे, जबकि दो अन्य बोलेरो में इंस्पेक्टर और सब इंस्पेक्टर रैंक के अफसर दल-बल के साथ मौजूद थे. पुलिस सूत्रों के मुताबिक डीएसपी के नेतृत्व में चल रहे इस काफिले में 60 पुलिसकर्मियों को लगाया गया है. इस काफिले में 3 बलेरो, 2 जिप्सी और दो प्रिजनर वैन शामिल है. सीओ की गाड़ी के साथ ही कुल 4 गाड़ियां आगे चल रहीं है. इसके बाद दोनों प्रिजनर वैन और सबसे पीछे पुलिस की जिप्सी है.

बता दें कि माफिया डॉन अतीक अहमद और अशरफ की हत्या से जुड़े तार खंगालने के लिए पुलिस की एसआईटी ने प्रयागराज के सीजेएम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है. इसमें एसआईटी ने तीनों आरोपियों की कस्टडी रिमांड मांगी है. इसी मामले में आज प्रयागराज के सीजेएम कोर्ट में सुनवाई होनी है. इसके लिए तीनों आरोपियों को प्रतापगढ़ की जेल से प्रयागराज लाया जा रहा है.

एसआईटी आरोपियों से पूछताछ कर इस वारदात के मास्टरमाइंड तक पहुंचने का प्रयास कर रही है. बता दें कि शनिवार की रात करीब साढ़े दस बजे माफिया डॉन अतीक अहमद की गोली मार कर हत्या कर दी. इस वारदात को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियोंलवलेश तिवारी, सनी और अरुण मौर्य ने मौके पर ही सरेंडर कर दिया था. लेकिन इनके पास से बरामद हथियार और मौका स्थिति को देखते हुए माना जा रहा है कि ये तीनों आरोपी मोहरा भर है. वारदात का मास्टरमाइंड कोई और है. कहा जा रहा है कि अतीक और अशरफ कोई बड़ा खुलासा करने वाले थे, लेकिन ऐन वक्त पर उसकी हत्याकर हमेशा के लिए उसका मुंह बंद कर दिया गया.

खबरें और भी हैं...