विवेक ओबेरॉय से 1.55 करोड़ की ठगी; बिजनेस पार्टनर ने इन्वेस्टमेंट के नाम पर दिया धोखा, गिरफ्तार

विवेक ओबेरॉय से 1.55 करोड़ की ठगी; बिजनेस पार्टनर ने इन्वेस्टमेंट के नाम पर दिया धोखा, गिरफ्तार

प्रधान संपादक आशीष सिंह

अभिनेता विवेक ओबेरॉय के साथ 1.55 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई है। मामले में आरोप एक्टर के ही पूर्व बिजनेस पार्टनर संजय साहा पर लगे हैं, जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।
मामले में दो और आरोपी वांछित हैं। पुलिस अभी केस की जांच कर रही है।

रविवार को अरेस्ट हुए संजय साहा

रिपोर्ट्स के अनुसार, साहा को रविवार को गिरफ्तार किया गया। विवेक की फर्म, ओबेरॉय मेगा एंटरटेनमेंट एलएलपी ने सीए देवेन बाफना को आनंदिता एंटरटेनमेंट एलएलपी के पार्टनर- संजय साहा, नंदिता साहा, राधिका नंदा और अन्य के खिलाफ जुलाई में उनकी ओर से पुलिस शिकायत दर्ज करने के लिए अधिकृत किया।

अभिनेता ने दर्ज कराई शिकायत

वहीं अभिनेता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि आरोपियों ने मुनाफा होने का वादा करके उनसे एक इवेंट मैनेजमेंट और फिल्म प्रोडक्शन फर्म में निवेश कराया था, लेकिन बाद में आरोपी ने कथित तौर पर इस पैसे का इस्तेमाल गलत फायदे के लिए किया। ओबेरॉय के प्रतिनिधि की शिकायत पर, एमआईडीसी पुलिस ने जुलाई में साहा, उनकी मां नंदिता और राधिका पर धारा 406 (आपराधिक विश्वासघात), 409 (लोक सेवक, बैंकर, व्यापारी या एजेंट द्वारा आपराधिक विश्वासघात), 420 (धोखाधड़ी) के तहत मामला दर्ज किया।

2020 में हुई ओबेरॉय-साहा की मुलाकात

पुलिस के अनुसार, ओबेरॉय की मुलाकात साहा से साल 2020 में काम के सिलसिले में समय हुई थी। ओबेरॉय और उनकी पत्नी प्रियंका अपनी फर्म ओबेरॉय ऑर्गेनिक एलएलपी को बंद करने की योजना बना रहे थे, लेकिन अभिनेता ने 2020 में फिल्म उद्योग में व्यवसाय करने के लिए साहा के साथ साझेदारी कर ली।

अभिनेता की पत्नी को इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया

पुलिस शिकायत के अनुसार, समझौते के तहत ओबेरॉय ऑर्गेनिक एलएलपी का नाम बदलकर आनंदिता एंटरटेनमेंट एलएलपी कर दिया गया, जो फिल्म उद्योग में इवेंट कराने लगी। फिल्में बनाने लगी। आनंदिता एंटरटेनमेंट एलएलपी में पार्टनर के तौर पर साहा और नंदिता का नाम भी जोड़ा गया। साहा की परिचित राधिका का नाम फर्म में भागीदार के रूप में जोड़ा गया था और अभिनेता की पत्नी प्रियंका को इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया।

95.72 लाख रुपये का निवेश किया

पुलिस ने कहा कि 6 महीने के बाद एक्टर विवेक आनंदिता एंटरटेनमेंट एलएलपी के भागीदारों में से बाहर हो गए और अपनी हिस्सेदारी (33.33 प्रतिशत) और पद को अपनी फर्म ओबेरॉय मेगा एंटरटेनमेंट एलएलपी से बदल लिया। नवंबर 2021 तक एक्टर ने आनंदिता एंटरटेनमेंट LLP में 95.72 लाख रुपये का निवेश किया था।

ओबेरॉय ने दिए 51 लाख रुपये

पुलिस शिकायत में कहा गया कि फरवरी 2021 में साहा और ओबेरॉय ने फिल्म गनशे का निर्माण करने का फैसला किया और अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी को इसके लिए साइन किया गया। ओबेरॉय ने इसके लिए 51 लाख रुपये का भुगतान किया। निर्देशक और लेखक को भी काम पर रखा गया और भुगतान किया गया। शिकायत में कहा गया है कि ओबेरॉय और साहा फिल्म के प्रसारण के लिए ज़ी-5 के ओटीटी प्लेटफॉर्म के साथ बातचीत कर रहे थे।

साहा ने पैसे का दुरुपयोग किया

साल 2022 की शुरुआत में जांच के दौरान ओबेरॉय को पता चला कि साहा ने पैसे का दुरुपयोग किया था। शिकायत में कहा गया है कि जब अभिनेता ने फर्म के प्रबंधक से बात की तो उसने भी इसकी पुष्टि की। एफआईआर के अनुसार, अभिनेता को पता चला कि साहा, नंदिता और राधिका ने कथित तौर पर बीमा के भुगतान, आभूषण खरीदने, वेतन निकालने आदि जैसे व्यक्तिगत खर्चों के लिए फर्म के 58.56 लाख रुपये के फंड का दुरुपयोग किया।

अधिकारियों से भी झूठ बोला

विवेक ओबेरॉय को पता चला कि साहा ने एक और फर्म, आनंदिता स्टूडियोज प्राइवेट लिमिटेड बनाई है। लिमिटेड और ज़ी-5 के अधिकारियों से यह कहकर झूठ बोला कि उनकी कंपनी, आनंदिता स्टूडियोज़ प्राइवेट लिमिटेड, गनशे का निर्माण कर रही थी। पुलिस शिकायत में कहा गया है कि इसके बाद ओबेरॉय ने अभिनेता सिद्दीकी को धोखाधड़ी के बारे में बताया, जिसके बाद सिद्दीकी ने ओबेरॉय को 51 लाख रुपये लौटा दिए।

साहा पर कई अन्य हस्तियों को धोखा देने का आरोप

साहा और अन्य आरोपियों ने 60 लाख रुपये की रकम हड़प ली, जो अभिनेता और उनकी कंपनी को इवेंट कराने या इवेंट में एक्टर को बतौर चीफ गेस्ट बुलाने के भुगतान के रूप में मिली थी। ओबेरॉय के वकील प्रेरक चौधरी और अमर सिंह ठाकुर ने आरोप लगाया कि साहा ने अन्य कई हस्तियों को भी धोखा दिया है।

खबरें और भी हैं...