लंबे लंबे भाषणों से नहीं ,सामाजिक नेता को रिपोर्ट कार्ड देख करे चेक :- राकेश बहादुर

लंबे लंबे भाषणों से नहीं ,सामाजिक नेता को रिपोर्ट कार्ड देख करे चेक :- राकेश बहादुर

रिपोर्टर किरशन कुमार

महासभा के राष्ट्रीय अधिवेशन में 18 प्रदेशों से आए प्रतिनिधियों ने किए विचार साझा

ऑल इंडिया अंबेडकर महासभा का दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन संपन्न

 

चंडीगढ़ :- ऑल इंडिया अंबेडकर महासभा द्वारा आयोजित दो दिवसीय का राष्ट्रीय अधिवेशन सेक्टर – 30 के लबाना भवन में संपन्न हुआ । जिसके पहले दिन उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्यातिथि के तौर पर चंडीगढ़ प्रशासक सलाहकार (आई.ए.एस) डा. धर्मपाल व अध्यक्षता महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश बहादुर ने की । अधिवेशन की मुख्य वक्ता अंबेडकर महासभा हरियाणा की प्रदेश अध्यक्ष रीना वाल्मीकि रही ।उद्घाटन समारोह में अधिवेशन में मौजूद लोगो को संबोधित करते हुए डा. धर्मपाल ने कहा कि ऑल इंडिया अंबेडकर महासभा द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन जरूर लोगो को जागरूक करने का काम करेगा और अंबेडकर ज्योति की ज्वाला को और मजबूत करेगा । महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश बहादुर ने कहा कि दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन के दौरान कार्यकर्ताओं और लोगो में खूब जोश देखने को मिला । अधिवेशन में 18 प्रदेशों से आए प्रतिनिधियों ने भाग लेकर अपने विचार और अपनी प्रदेशों से जुड़ी समस्याओं पर बात कर चर्चा की । बहादुर ने बताया कि इस अधिवेशन का मकसद बाबा साहेब की विचारधारा का प्रचार प्रसार कर लोगो को जागरूक करना था । बहादुर ने लोगो से आग्रह करते हुए भी अपील करी की इस अस्मिता की लड़ाई को लड़ने के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में अंबेडकर महासभा से जुड़कर कार्य करे और बहुजन समाज को मजबूत करने का काम करे ।

अधिवेशन के दूसरे दिन प्रदेश चुनाव आयुक्त हरियाणा धनपत सिंह , अध्यक्षता के तौर पर अंबेडकर महासभा चंडीगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष और क्रन्तिकारी नेता सत्यवान सरोहा ,पूर्व डीजीपी बीएस संधू और मुख्य वक्ता महासभा के राष्ट्रीय महासचिव सरदार अमरीक सिंह बांगड़ मुख्य रूप से उपस्थित रहे ।
चुनाव आयुक्त धनपत सिंह ने कहा की जाति एक वास्तविकता है जिससे नकारा नहीं जा सकता , जाति एक ऐसा कुष्ठ रोग है जो देश को खोखला कर देती है । हमे जातियों में न बटकर एक सांझे मंच पर आना होगा और यह कार्य इस दो दिवसीय अधिवेशन के बाद लगता है ऑल इंडिया अंबेडकर ही वह छतरी बन सकती । महासभा के प्रधान महासचिव अमरीक सिँह बंगड़ ने महासभा की पंचवर्षीय कार्यसूची और संकल्प पत्र को प्रस्तावित किया जिसका अधिवेशन में मोजूद लोगो ने हाथ उठाकर सहमति देते हुए मंजूर किया । सत्यवान सरोहा ने कहा कि हमे बाबा साहब के दिखाए रास्ते पर चलते हुए जातियों में न बटकर हमे एक होना है और जो हमे एकता के सूत्र में पिरो सकती है वह जाति अंबेडकरबादी है । दो दिवसीय अधिवेशन के दौरान कलाकारों द्वारा खूब मनमोहक प्रस्तुतियां भी दी गई , इस दौरान प्रवीन बड़सी , मनजीत मेहरा ,सविता अंबेडकर और गुड शेफर्ड स्कूल के बच्चों ने अपनी कला द्वारा लोगो को खूब मन मोहा । दो दिवसीय इस अधिवेशन में पश्चिम बंगाल से सुरेश राम चौहान , मध्य प्रदेश से छोटू राम आदिवासी ,महाराष्ट्र से असलम कादरी , उत्तर प्रदेश से आर के चौहान , छत्तीसगढ़ हिमानी वासनिक ,पंजाब से परवीन सिंह , झारखंड से बलेमा कुई , राजेंद्र कुमार तेलंगाना , गुजरात से किरकिट कुमार , बिहार संजय वाल्मीकि , हिमाचल प्रदेश सुशील बहल , राजस्थान से राकेश पंडित व अन्य प्रदेशों से आए प्रतिनिधिओ ने अधिवेशन को सम्भोधित किया!
सत्यवान सरोहा
प्रधान
चंडीगढ़ प्रदेश

खबरें और भी हैं...