मुंबई एयरहोस्टेस की हत्या

मुंबई एयरहोस्टेस की हत्या

कचरा कलेक्ट करने वाला निकला हत्यारा,

बचने के लिए लगाया शातिर दिमाग,

एक गलती से पकड़ा गया

प्रधान संपादक आशीष सिंह

 

मुंबई एयरहोस्टेस हत्या मामले में पुलिस ने बिल्डिंग में कचरा कलेक्ट करने वाले एक कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। पीड़िता रूपल ओग्रे मरोल, अंधेरी में अपने चचेरी बहन ऐश्वर्या के साथ 1 बीएचके फ्लैट में रहती थी।

 

पीड़िता की लाश बाथरूम के अंदर खून से लथपथ अर्धनग्न अवस्था में मिली। घटना की जानकारी तब सामने आई जब पीड़िता ने परिजनों के फोन का कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद उसकी बहन ने एक कॉमन फ्रेंड को कॉल किया। वह पीड़िता का हाल जानने के लिए फ्लैट पर पहुंचा। देखा तो दरवाजा अंदर से बंद था। इसके बाद उसने चाबी बनवाने वाले को बुलवाया और डुप्लीकेट चाबी बनवाकर फ्लैट के अंदर गया। उसने देखा तो पीड़िता मृत अवस्था में बाथरूम के फर्श पर पड़ी हुई थी। उसका गला दो बार चाकू से काटा गया था। मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस घटना स्थल पर पहुंची। इसके बाद मामले की जांच शुरू हुई।

 

बिल्डिंग के हाउसकीपिंग स्टाफ और सुरक्षा गार्ड्स सहित 45 से अधिक लोगों से पूछताछ के बाद पवई पुलिस का कचरा कलेक्ट करने वाले एक कर्मचारी पर ध्यान गया। जिसकी पहचान विक्रम अठवाल (35) के रूप में हुई है। जिस पर पीड़िता के साथ यौन उत्पीड़न करने और उसे मारने की कोशिश करने का शक है। पुलिस ने कहा कि ओग्रे की हत्या रविवार सुबह 11.30 बजे से दोपहर के बीच की गई। पुलिस ने अठवाल के खिलाफ हत्या के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 307 के तहत मामला दर्ज किया है और कथित तौर पर इस्तेमाल किए गए चाकू को बरामद करने की कोशिश है।

 

हत्या के बाद आरोपी ने वर्दी से धोए खून के धब्बे, बदले कपड़े

 

रविवार को अंधेरी (पूर्व) के एक फ्लैट में 23 वर्षीय फ्लाइट अटेंडेंट की हत्या की जांच कर रही पुलिस टीम ने कचरा कलेक्ट करने वाले एक कर्मचारी पर संदेह जताया क्योंकि उसकी गर्दन और हाथों पर ताजा चोट के निशान थे। सीसीटीवी कैमरे में उसे वर्दी में नहीं बल्कि दूसरे कपड़ों में इमारत से बाहर निकलते हुए देखा गया। पीड़िता रूपल ओग्रे ने हत्या से पहले रायपुर में अपने दोस्तों से बात की थी।

 

आरोपी ने कबूल की हत्या की बात

 

आरोपी विक्रम अठवाल (35) ने कथित तौर पर रविवार सुबह 11.30 बजे के आसपास पीड़ित के फ्लैट में पहुंचकर उसकी हत्या करने की बात कबूल कर ली है। अठवाल ने कहा कि वह हत्या करने के लिए फ्लैट में घुसा। उसने दोपहर के आसपास पीड़िता का हत्या कर दी लेकिन दो घंटे तक इमारत से बाहर नहीं निकला। वारदात को अंजाम देने के बाद उसने अपनी वर्दी से खून के धब्बे धोए, कपड़े बदल और फिर दोपहर 1.30 बजे बिल्डिंग से बाहर चला गया। इसके बाद वह सीधे पवई के तुंगा में स्थित अपने घर गांव वाले घर चला गया।

 

चचेरी बहन के फोन कॉल के बाद हत्या के बारे में मिली जानकारी

 

पवई के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि जब वह सोमवार को काम पर आया तो उसे पकड़ लिया गया। पीड़िता मार्च में फ्लाइट अटेंडेंट के रूप में एक प्राइवेट एयरलाइन में शामिल हुई थी। पिछले तीन महीनों से अपनी चचेरी बहन ऐश्वर्या के साथ किराए के फ्लैट में रहती थी। एक हफ्ते पहले ही ऐश्वर्या अपने रायपुर स्थित घर गई थीं। रविवार को दोपहर 1.30 बजे के बाद पीड़िता ने किसी के फोन का जवाब नहीं दिया। इसके बाद ऐश्वर्या और पीड़िता के पिता को शक हुआ। आखिरकार रात 9 बजे ऐश्वर्या ने अपने एक कॉमन फ्रेंड को फोन किया और उससे पीड़िता के बारे में पता लगाने के लिए कहा। इसके बाद ही घटना सामने आई।

 

इसके बाद पुलिस ने बिल्डिंग के सीसीटीवी फुटेज और गेस्ट लॉग बुक की जांच की। पुलिस ने रविवार को सुबह 10 बजे से दोपहर के बीच बिल्डिंग में आने वाले कम से कम 35 लोगों से पूछताछ की। इसके बाद पुलिस ने सुरक्षा गार्ड और हाउसकीपिंग स्टाफ से पूछताछ की। सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि अठवाल रविवार सुबह अपनी वर्दी में काम पर आया था मगर दूसरे कपड़े पहनकर इमारत से बाहर निकला था।

 

एक पुलिस अधिकारी ने कहा ‘कम से कम 40 लोगों से पूछताछ के बाद हमारी नजर अठवाल पर पड़ी। उसकी गर्दन और हाथों पर ताजा चोट के निशान थे। इस कारण हमें उस पर शक हुआ। पूछताछ में उसने अपने कपड़े बदलने के बाद बिल्डिंग से बाहर निकलने की बात कबूल कर ली।’

 

इमारत के एक सुरक्षा गार्ड ने मीडिया को बताया कि सोमवार को जब अठवाल काम पर आया तो उसका व्यवहार सामान्य था। वह पिछले छह महीने से बिल्डिंग में काम कर रहा है। डीसीपी नलवाडे ने कहा कि हत्या के कारणों का अभी पता नहीं लग पाया है। हमें आरोपी का कोई पिछला अपराध इतिहास नहीं मिला। वह शादीशुदा है और उसके दो बच्चे हैं। उसकी पत्नी उसी बिल्डिंग में घरेलू सहायिका के रूप में काम करती है।

 

सोमवार को पीड़िता के माता-पिता और चचेरी बहन मुंबई पहुंचे। वे घाटकोपर (पश्चिम) के राजावाड़ी अस्पताल में मौजूद थे जहां पोस्टमार्टम किया गया था। पीड़िका एक डिजिटल कंटेट क्रिएटर और सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर भी थी। वह लगभग छह महीने पहले एयरलाइन में शामिल होने के लिए मुंबई आईस थी। फिलहाल मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।

खबरें और भी हैं...