मीरा रोड मर्डर मिस्ट्री – आरोपी मनोज साने ने एचआईवी पॉजिटिव का दावा किया

मीरा रोड मर्डर मिस्ट्री – आरोपी मनोज साने ने एचआईवी पॉजिटिव का दावा किया कि पीड़िता उसके लिए बेटी की तरह थी

मुंबई – आशीष सिंह

मीरा रोड के गीता नगर इलाके में गुरुवार को एक चौंकाने वाला और जघन्य अपराध सामने आया, जहां 56 वर्षीय मनोज रमेश साने पर अपनी कथित लिव-इन पार्टनर सरस्वती वैद्य (32) की हत्या करने और उसके टुकड़े-टुकड़े करने का आरोप है। शरीर के अनगिनत टुकड़े पुलिस पूछताछ के दौरान, साने ने अपनी एचआईवी पॉजिटिव स्थिति का खुलासा किया और वैद्य के साथ किसी भी शारीरिक संबंध से इनकार किया, दावा किया कि वह उसके लिए एक बेटी की तरह थी, द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में कहा गया है।

आरोपी का खुदकुशी का दावा

साने ने कहा कि आरोपी साने ने दावा किया कि वैद्य की मृत्यु 3 जून को आत्महत्या से हुई। परिणामों के डर से, उसने शरीर को ठिकाने लगाने का प्रयास किया और उसके बाद खुद की आत्महत्या की योजना बनाना स्वीकार किया।

भीषण शरीर निपटान के तरीके

साने ने कथित तौर पर वैद्य के शरीर को छोटे-छोटे हिस्सों में बांटने के लिए इलेक्ट्रिक ट्री कटर का इस्तेमाल किया था। इनमें से कुछ शरीर के अंगों को प्रेशर कुकर में उबाला गया और आसान निपटान के लिए गैस स्टोव पर भून लिया गया। साने ने टूटे हुए टुकड़ों को विभिन्न रसोई के बर्तनों में संग्रहीत किया, जिससे पुलिस के लिए उन्हें सही ढंग से गिनना असंभव हो गया।

कानूनी कार्यवाही और शुल्क

पुलिस ने साने के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) में आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 201 (सबूतों को नष्ट करना) के तहत मामला दर्ज किया है। उसे अदालत में पेश किया गया और 16 जून तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

2008 में एचआईवी का निदान किया गया था: साने

प्रारंभिक पूछताछ के दौरान, साने ने पुलिस को सूचित किया कि उसे 2008 में अपनी एचआईवी पॉजिटिव स्थिति का पता चला। उसने दावा किया कि एक दुर्घटना के बाद पिछले उपचार के दौरान संक्रमित रक्त के कारण उसे यह बीमारी हो गई थी। तब से वह दवा पर है।

पीड़िता का अभियुक्त के प्रति पजेसिव नेचर था

साने के कबूलनामे के मुताबिक, वैद्य जब भी देर से घर लौटता था तो उसे बेवफाई का शक होता था। साने, जो एक औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान प्रमाण पत्र होने के बावजूद 10 वर्षों से पीडीएस की दुकान पर काम कर रही थी, वैद्य गणित पढ़ा रही थी, क्योंकि वह अपनी कक्षा 10 एसएससी परीक्षाओं की तैयारी कर रही थी। उनके सातवीं मंजिल के फ्लैट की एक दीवार पर गणित के समीकरणों वाला एक बोर्ड मिला।

चल रही जांच और फोरेंसिक विश्लेषण

पुलिस यह पता लगाने के लिए चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ सहयोग कर रही है कि शरीर के कौन से अंग खंडित अवशेषों से गायब हैं। इनके पास से वारदात में प्रयुक्त इलेक्ट्रिक कटर भी बरामद कर लिया है। एकत्रित शरीर के अंगों को फोरेंसिक विश्लेषण के लिए सर जेजे अस्पताल भेजा गया है।

खबरें और भी हैं...