भारत के भगोड़े दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान ने बनाया आईएसआई का अतिरिक्त महानिदेशक

भारत के भगोड़े दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान ने बनाया आईएसआई का अतिरिक्त महानिदेशक

प्रधान संपादक आशीष सिंह

भारत के खिलाफ एक बड़ी साजिश को अंजाम देते हुए पाकिस्तान का एक और नया कारनामा सामने आ रहा है। जानकारी के मुताबिक 1993 मुंबई बम ब्लॉस्ट के मुख्य आरोप और भगोड़े आतंकी दाऊद इब्राहिम कासकर को पाकिस्तान ने खुफिया एजेंसी आईएसआई का अतिरिक्त महानिदेशक बनाया है।
समाचार वेबसाइट फ्री प्रेस जर्नल की खबर के अनुसार पाकिस्तान ने दाऊद को पिछले कई दशकों से आईएसआई के लिए किये जा रहे उसके कारनामें का इनाम दिया है। दाऊद 80 के दशक के आखिर में आईएसआई की मदद से भारत से फरार होकर दुबई पहुंचा था, जहां से भारत में अपने आतंकी नेटवर्क ऑपरेट करता था और 12 मार्च 1993 को दाउद ने आईएसआई की मदद से टाइगर मेमन के साथ मिलकर मुंबई में बम धमाके कराये थे।

1993 मुंबई धमाके के आईएसआई ने दाऊद का ठिकाना दुबई से कराची ट्रांसफर करा दिया। जहां उसे बाकायदा पाक आर्मी की सुरक्षा दी गई और तभी से दाऊद पाकिस्तान के आतंकी संगठनों के साथ मिलकर भारत के खिलाफ साजिश कर रहा है।

अल कायदा, ओसामा बिन लादेन और तालिबान से नाम जुड़ने के बाद संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका ने दाऊद को ग्लोबल आतंकी घोषित किया था। दाऊद का मुख्य काम पुरी दुनिया में नशीली दवाओं की तस्करी करना है और इसके मुनाफे में वह बड़ा हिस्सा आईएसआई के आकाओं को देता है और साथ ही पाकिस्तान की आतंकी गतिविधियों को भी दाउद कंपनी से पैसा जाता है।

अमेरिकी प्रशासन की माने तो दाऊद ने पिछले दो दशकों में अल-कायदा और उसके अन्य समूहों में अपनी पैठ बनाने के लिए खुद को भारत का सबसे बड़ा डॉन बताया है। दाऊद ने दक्षिण एशिया, मध्य पूर्व और अफ्रीका के अपने नशीले कारोबार के सिंडिकेट में पाकिस्तान में मारे गये आतंकी ओसामा बिन लादेन और उसके आतंकवादी नेटवर्क के साथ मदद ली थी। जानकारी के मुताबिक 90 के दशक के आखिर में दाऊद ने तालिबान के संरक्षण में अफगानिस्तान की यात्रा भी की थी।

खबरों के अनुसार दाऊद भारत के खिलाफ सीमा पार से मादक पदार्थों की तस्करी कर रहा है और इसमें आईएसआई उसकी मदद कर रहा है। वहीं उसके सबसे खास गुर्गे छोटा शकील की बात करें तो वह अब रियल एस्टेट, बॉलीवुड सहित अन्य क्षेत्रों में दाऊद के काले कारोबार को संभालता है।

वहीं दाऊद का भाई अनीस इब्राहिम खाड़ी और मध्य पूर्व में फैले उसके धंधे को देखता है। माना जाता है कि आज भी मुंबई, अहमदाबाद और अन्य शहरों में दाऊद का नेटवर्क बरकरार है और वह आईएसआई को भारत के विभिन्न जगहों में जासूसी गतिविधियों को संचालित करने में मदद करता है।

खबरें और भी हैं...