पुणे लोकसभा क्षेत्र के लिए भाजपा, शिवसेना, एनसीपी, मनसे, आरपीआई (ए) महागठबंधन

पुणे लोकसभा क्षेत्र के लिए भाजपा, शिवसेना, एनसीपी, मनसे, आरपीआई (ए) महागठबंधन की ओर से मुरलीधर मोहोल गुरुवार 25 अप्रैल को नामांकन पत्र दाखिल करेंगे.

पुणे रत्नाकर धैंजे

इस वक्त रैली निकालकर महायुति द्वारा जोरदार शक्ति प्रदर्शन किया जाएगा. नामांकन दाखिल करते समय मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस,

अजीत पवार व केंद्रीय राज्यमंत्री रामदास आठवले भी उपस्थित रहेंगे. महायुति के जिले के चारों उम्मीदवारों के प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 अप्रैल को

पुणे में सभा व रैली करेंगे. महायुति के उम्मीदवार मुरलीधर मोहोल, भाजपा शहराध्यक्ष धीरज घाटे, एनसीपी शहराध्यक्ष दीपक मानकर, शिवसेना सहसंपर्क प्रमुख

अजय भोसले, मनसे नेता राजेंद्र उर्फ बाबू वागसकर, आरपीआई शहराध्यक्ष संजय सोनावणे तथा अन्य दलों के पदाधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे.

घाटे ने कहा, सुबह 9 बजे कोथरुड स्थित छत्रपति शिवाजी महाराज के स्मारक से रैली शुरू होगी. यह रैली डेक्कन में छत्रपति संभाजी महाराज स्मारक पर समाप्त होगी.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार और केंद्रीय मंत्री आरपीआई अध्यक्ष रामदास आठवले मौजूद रहेंगे और बैठक

का मार्गदर्शन करेंगे. इस बैठक में शिरूर लोकसभा उम्मीदवार शिवाजीराव आढलराव पाटिल भी शामिल होंगे.देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 तारीख की शाम को पुणे, बारामती,

शिरूर और मावल लोकसभा क्षेत्रों के लिए सभा करेंगे. इस सभा से पहले उनका रोड-शो आयोजित किया गया है. इन दोनों बड़े कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिए महायुति बैठक

का आयोजन किया गया. नामांकन फॉर्म भरने के लिए एक लाख नागरिकों के शामिल होने की उम्मीद है.

दीपक मानकर ने कहा, एनसीपी कार्यकर्ता पूरे दिल से मुरलीधर मोहोल के पीछे खड़े होने के लिए प्रतिबद्ध हैं और चुनाव का माहौल बहुत अच्छा है. मनसे नेता राजेंद्र वागसकर ने कहा

, हम रैली की योजना बनाने के लिए सभी 6 विधानसभा क्षेत्रों में योजना बना रहे हैं. मनसे ने 27 अप्रैल को पुणे लोकसभा क्षेत्र के लिए एक रैली का आयोजन किया है. मुरलीधर मोहोल

एक अध्ययनशील और अच्छे उम्मीदवार हैं, जो पुणेकर के पसंदीदा उम्मीदवार हैं. इसलिए वह भारी मतों से जीतेंगे. सभी दलों के अध्यक्षों ने कहा कि यह रैली महायुति की जीत की

शुरुआत होगी और सभी दलों के अध्यक्षों ने यह वेिशास भी जताया कि एकजुट होकर काम करने से उम्मीदवार की जीत होगी.

खबरें और भी हैं...