पत्रकारों की समस्याओं को लेकर समीक्षा बैठक 

पत्रकारों की समस्याओं को लेकर समीक्षा बैठक

 

रिपोर्ट- कमल सिंह यादव

 

आजमगढ़ जिले में रैदोपुर स्थित ज्ञान शिखा टाइम्स राष्ट्रीय हिंदी दैनिक समाचार पत्र के कार्यालय पर पत्रकारों की आवश्यक बैठक कर हो रहे पत्रकारों पर हो रहे अत्याचार को लेकर चर्चा की गई एवं सुरक्षा को लेकर एक नए पत्रकार संघ बनाने की भी बात रखी गयी है। जिसका संचालन जितेंद्र मौर्य एवं कमल सिंह यादव ने किया है मुख्य अतिथि त्रिभुवन तिवारी,विपिंन ओझा विशिष्ट अतिथि कलीम, फैजान रहे बैठक में आए हुए सभी पत्रकारों को संबोधित करते हुए जितेंद्र मौर्या ने कहा कि यह बैठक आज कमल सिंह यादव द्वारा बुलाई गई है बैठक का मुख्य उद्देश्य यह है कि हम लोग एक नए संगठन बनाने की बात रखी गयी हैं पत्रकार तो पत्रकार होता है ना कोई छोटा और न ही कोई बड़ा होता है। प्रिंट मीडिया हो या इलेक्ट्रॉनिक सभी को सम्मान दे देश का चौथा स्तंभ कहा जाने वाले पत्रकार समाज की सेवा करने वाले को सम्मान ही चाहिए और कुछ मांगता नही है।और यह संगठन जो बनाया जा रहा है इसमें ना कोई बड़ा है ना कोई छोटा है इसमें सब लोग अपने भाई हैं यह संगठन पत्रकारों की सुरक्षा के लिए बनाया जा रहा है इसमें पत्रकारों के हित के लिए जो भी होगा पत्रकार संघ की टीम आप सभी लोगों से बिचार करते हुवे काम करेगी इसी के साथ ही कमल सिंह यादव ने कहा कि पत्रकारों के हित के लिए हाईकोर्ट में एक पत्रकार सुरक्षा के लिए याचिका भी दाखिल की जाएगी जो पत्रकारो के हित मे हो।

आजमगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार जितेंद्र मौर्य ने कहा कि पत्रकार एक पत्रकार जब किसी गरीब असहाय पीड़ित की आवाज अपने चैनल व पेपर के माध्यम से उठाता है तो विरोधियों के आँख की किरकिरी तो जरूर बनता है लेकिन पत्रकार को खुसी तब होती है जब समाज व प्रसासन के लोगो द्वारा द्वारा थू थू करते हुवे संज्ञान में लेकर सासन व प्रसासन द्वारा कार्यवाही होती है। उंन्होने यह भी कहा कि चाहे जितना भी मुकदमा हो जो सही होगा वही लिखा जाएगा समाचार से कोई भी समझौता नही होगा

मुख्य अतिथि त्रिभुवन तिवारी ने कहा कि एक प्रशासनिक टीम भी बनायी जाएगी प्रशासनिक टीम में कलीम, विपिन , फैजान , रामजीत एवं कमल सिंह यादव द्वारा जो नाम दिया जाएगा उनको शामिल करते हुए बहुत जल्द ही उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी से मुलाकात कर पत्रकारों की सुरक्षा के लिए एक ज्ञापन के माध्यम से अपनी मांग रखेंगे कि अगर किसी पत्रकार के ऊपर कोई मुकदमा दर्ज होता है तो सबसे पहले उच्च अधिकारियों द्वारा जांच कराई जाए अगर जांच कराने के बाद दोष सिद्ध होता है तब मुकदमा दर्ज किया जाए अन्यथा पत्रकारों को बेवजह मुकदमा दर्ज कर परेशान न किया जाए गहमा गहमी के बीच संगठन का नाम रख्खा गया वही प्रशासनिक टीम भी गठित की गई जो किसी प्रकरण पर निर्णय ले सके।

बैठक में उपस्थित त्रिभुवन तिवारी,विपीन ओझा ,कमल सिंह यादव,अब्दुल कुद्दूष, कलीम, अर्जुन कुमार, जितेंद्र मौर्या अशोक कुमार ,शाहनवाज, रामजीत , मेराज ,अलकाफ,ओबैद,आदि लोग उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...