धनुष यज्ञ के साथ कथा में उमड़ा जनसैलाब पंडित सीताराम नाम शरण जी महाराज

धनुष यज्ञ के साथ कथा में उमड़ा जनसैलाब पंडित सीताराम नाम शरण जी महाराज

रिपोर्ट- डा.बिरेन्द्र सरोज आजमगढ

आजमगढ़| लीलापुर लगातार चल आज चौथे दिन लगातार श्रीराम कथा चल रही कथा वाचक पऺ० श्री सीता राम नाम शरण जी महाराज ने कहा कि कलयुग मे प्रभु का नाम तारतार ही आधार है पवित्र सीताराम शरण महराज ने कहा कि श्रीराम राजसत्ता का परित्याग कर 14 वर्षों तक जगत के कल्याण करते हुये पुरे जगत का कल्याण किया तो वही उनकी भक्ति की पराकाष्ठा सबरी के आश्रम में भगवान श्रीराम की भक्ति का दर्शन हुआ वही राजा जनक द्वारा लिया गया सकल्प धनुष तोडते ही माता जानकी के साथ विवाह हुआ इस संकल्प के साथ तमाम मायूसी के बाद भगवान राम ने भगवान शंकर के धनुष को तोड़कर विश्व अहंकार का विनाश कर दिया जो इतिहास बनकर अमर हो गया और इस संसार के हर प्राणी को एयरपोर्ट करा दिया कि सदैव अहंकार का नाश होता है क्योंकि जो आत्मा प्रभु की जितना करीब रहती है उतना ही परमात्मा की कृपा होती है जब आत्मा महानता का कार्य करता है तो वह महात्मा बन जाता है राम विवाह की कथा बड़े ही मार्मिक तरीके से पंडित श्री सीताराम नाम शरण जी मुखारविंद के साथ लोगों ने श्रीराम कीर्तन आरती के साथ प्रसाद ग्रहण लोगों नेभक्ति रुपी आस्था में डुबकी लगाकर अपने आप कृतार्थ किया लीलापुर में उमड़ा आस्था का सैलाब मुख्य रूप से कृपा शंकर पाठक राजेश पाठक पं रामकृष्ण पं सभाजीत पांडे गोपाल साहू सुरेंद्र गिरी बृजेश दुबे विनोद लाल पूनम आशा उषा चंद्रकला अर्चना गगन कांत अविनाश कन्हैया पांडे मोनू विश्वकर्मा राम अवधेश वर्मा आस्था धर्म की आस्था में डुबकी लगाई।

 

खबरें और भी हैं...