दीक्षांत समारोह में कृषि महाविद्यालय, कोटवा के दो छात्रों को कुलाधिपति एवं कुलपति पदक

दीक्षांत समारोह में कृषि महाविद्यालय, कोटवा के दो छात्रों को कुलाधिपति एवं कुलपति पदक

रिपोर्ट- डा.बीरेन्द्र सरोज आजमगढ

आजमगढ़ / कृषि महाविद्यालय कोटवा आज़मगढ़ आचार्य नरेंद्रदेव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय द्वारा संचालित है, का 16 जनवरी को 24वां दीक्षांत समारोह कुमारगंज अयोध्या में आयोजित किया गया। जिसमें महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रो धीरेन्द्र कुमार सिंह सहित सहायक अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ अनिल कुमार सिंह, सहायक छात्रावास अधीक्षक डॉ विमलेश कुमार एवं डॉ संदीप कुमार पांडेय शामिल हुए I
इस कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीया कुलाधिपति एव राज्यपाल उत्तर प्रदेश श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कृषि मंत्री उत्तर प्रदेश सूर्य प्रताप शाही जी उपस्थित रहे। इस अवसर पर कृषि महाविद्यालय आज़मगढ़ की छात्रा रिचा कुमारी प्रथम अवनीश कुमार पटेल द्वितीय एवं अक्षय कुमार राम तृतीय स्थान रहे I जिसमें रिचा कुमारी को कुलाधिपति पदक एव अवनीश कुमार सिंह को कुलपति पदक देकर सम्मानित किया गया। इन छात्रों की इस उपलब्धि पर कृषि महाविद्यालय कोटवा में हर्षोल्लास का माहौल है।महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रो धीरेन्द्र कुमार सिंह ने इन छात्राओं को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए कामना की एव उन्हें प्रोत्साहित किया कि वे इसी तरह आगे बढ़कर अपना, अपने महाविद्यालय का परिवार का जनपद एवम् अपने राज्य का नाम रोशन करे। इस अवसर पर माननीय राज्यपाल ने कहा कि नई शिक्षा नीति छात्रो के व्यक्तित्व विकास में अहम भूमिका निभाएगी I कृषि शिक्षा एवं कृषि शोध को बढावा देने के लिए राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत प्रोजेक्ट बनाने होंगे, प्राकृतिक खेती को अपना मृदा एवं जलवायु संतुलन बनाना होगा, मोटे अनाज के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने सभी को मोटे अनाज उगाने एवं उपयोग करने के लिए प्रेरित भी कियाI कृषि के विकास के लिये किसानों को ड्रोन तकनीकी का उपयोग करना चाहिए l उन्होंने यह भी कहा कृषि उत्पादन में जल का समुचित उपयोग करके जल संचय करना कृषि विकास में उचित भूमिका निभा सकता है I विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह ने दीक्षान्त समारोह सम्मिलित हुए सभी छात्रों को शुभकामनाएं दीं एवं भविष्य में नई ऊंचाईयों को प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया l

खबरें और भी हैं...