गोरखपुर-फैजाबाद खंड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के द्विवार्षिक निर्वाचन के संबंध में दिया गया प्रशिक्षण

गोरखपुर-फैजाबाद खंड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के द्विवार्षिक निर्वाचन के संबंध में दिया गया प्रशिक्षण

रिपोर्ट- डा.बीरेन्द्र सरोज आजमगढ

आजमगढ़ 28 जनवरी– जिलाधिकारी श्री विशाल भारद्वाज की अध्यक्षता में आज नेहरू हाल के सभागार में दिनांक 30 जनवरी 2023 को होने वाले गोरखपुर-फैजाबाद खंड स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के द्विवार्षिक निर्वाचन-2023 को सकुशल संपन्न कराने के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया।
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि जिन्होने बैलेट बाक्स से अभी तक निर्वाचन नहीं कराया है, पोलिंग टीम के वे सदस्य बैलेट बॉक्स को खोलना और बंद करना अच्छी तरह से समझ लें। उन्होंने कहा कि आप सभी लोग निर्वाचन की संवेदनशीलता से अवगत हैं, सभी लोग निर्वाचन ड्यूटी के दौरान भारत निर्वाचन आयोग के ड्यूरेशन पर रहते हैं। भारत निर्वाचन के निर्देश आपके क्रियाकलाप पर लागू होंगे। उन्होंने कहा कि यद्यपि यह निर्वाचन छोटा है तथा बहुत ही सीमित संख्या में वोटर होते हैं। उन्होंने कहा कि आपके बूथ की संवेदनशीलता उतनी ही होती है, जितनी कि अन्य निर्वाचन के दौरान होती है। उन्होंने कहा कि स्नातक निर्वाचन से स्पष्ट है कि स्नातक एवं पढ़े-लिखे लोग ही वोटर होते हैं। इसलिए इसमें अनुभवी लोगों को ही चुनाव ड्यूटी में लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि पोलिंग पार्टी रवाना होने से पहले बैलेट पेपर को शत प्रतिशत चेक कर लिया जाए। उसकी संख्या एवं प्रिंट को अच्छी तरह से चेक कर लें। उन्होंने कहा कि पेन, चिन्ह को अनिवार्य रूप से लेकर ही यहां से प्रस्थान करेंगे। उन्होंने कहा कि सेक्टर मजिस्ट्रेट इन सभी चीजों को आवश्यक रूप से चेक कर पोलिंग पार्टी को रवाना करेंगे। उन्होंने कहा कि सेक्टर मजिस्ट्रेट के पास भी यह सारी चीजें रिजर्व में रहेंगे।
जिलाधिकारी ने कहा कि पोलिंग पार्टी निर्धारित वाहन से ही जाएंगे। उन्होंने कहा कि निर्वाचन कार्यालय द्वारा प्रदान किए गए वाहन से ही बैलट बॉक्स जाएंगे। वाहन की खराबी होने पर तत्काल दूसरे वाहन की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में अन्य वाहनों का प्रयोग नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक दशा में बैलेट बॉक्स पोलिंग स्टेशन पर ही पहुंचना चाहिए। बैलट बॉक्स प्रिसाइडिंग ऑफिसर स्वयं पूरी टीम एवं सुरक्षाकर्मियों के साथ लेकर आएंगे। उन्होंने कहा कि बैलेट बॉक्स प्रत्याशियों के प्रतिनिधि के सामने ही प्रस्थान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पोलिंग समाप्त होने के बाद निर्धारित वाहन एवं निर्धारित सुरक्षा में ही लाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि बैलेट बॉक्स जमा होने के बाद एक विशेष वाहन से मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में गोरखपुर ले जाना होगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि वोटर वोट डालने के लिए पात्र हैं या नहीं, इसकी जांच आप लोगों के द्वारा नहीं की जाएगी। किसी भी वोटर की डिग्री, डिप्लोमा, मार्कशीट नही चेक किया जायेगा। वोटर लिस्ट में नाम होना ही वोट डालने के लिए पर्याप्त है। उन्होने कहा कि वोटर का सिर्फ निर्वाचन आयोग द्वारा निर्धारित पहचान पत्र को ही चेक किया जाएगा। वहां किसी भी एजेंट के द्वारा आपत्ति करने पर स्वीकार नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में पोलिंग टीम का सदस्य पोलिंग सेंटर पर हीं रहेगा। 29/30 जनवरी की रात में पोलिंग टीम पोलिंग स्टेशन पर ही रहेंगे। उन्होंने कहा कि पोलिंग स्टेशनों पर पर्याप्त व्यवस्था की गई है, कहीं अन्य स्थान पर जाकर खतरा न उठाएं। उन्होंने कहा कि निर्वाचन ड्यूटी में लगाए गए सभी अधिकारी पूरी निष्ठा, ईमानदारी एवं पारदर्शी, निष्पक्ष तरीके से चुनाव को भारत निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन के अनुसार संपन्न कराएंगे।
इसी के साथ ही मास्टर ट्रेनर इं0 कुलभूषण सिंह द्वारा निर्वाचन प्रक्रिया के बारे में विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया।
प्रशिक्षण कार्यक्रम में मुख्य विकास अधिकारी श्री आनंद कुमार शुक्ला, जिला विकास अधिकारी श्री संजय कुमार सिंह, पोलिंग पार्टी के सदस्य, सेक्टर मजिस्ट्रेट उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...