एसटीएफ प्रयागराज ने पकड़ा 66 किग्रा गांजा मीरजापुर, 20 अगस्त (हि.स.)। स्पेशल टास्क फोर्स 

एसटीएफ प्रयागराज ने पकड़ा 66 किग्रा गांजा

मीरजापुर, 20 अगस्त (हि.स.)। स्पेशल टास्क फोर्स

 

इलाहाबाद सत्यम साहू

 

प्रयागराज की टीम ने मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले अंतरप्रांतीय गिरोह के एक आरोपित को मीरजापुर-रीवां राष्ट्रीय राजमार्ग 135 के लालगंज अतरैला गांव के समीप रविवार की रात गिरफ्तार कर लिया।

जबकि दूसरा आरोपित मौके का फायदा उठा फरार हो गया। पकड़ी गई कार से 66 किलो गांजा व आरोपित के पास से चार आधार कार्ड, चार मोबाइल, पैन कार्ड, डेबिट कार्ड व पांच हजार सात सौ रुपये बरामद हुए। पुलिस ने आरोपित के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।

 

एसटीएफ लखनऊ की टीम को सूचना मिली थी कि मादक पदार्थ की तस्करी करने वाला गिरोह ओडिशा से एक कार में गांजा छिपाकर मध्य प्रदेश के रास्ते मीरजापुर की ओर जाने वाला है। जानकारी होने पर एसटीएफ प्रयागराज को लगाया गया। पुलिस उपाधीक्षक नवेंदु कुमार के नेतृत्व में उप निरीक्षक धर्मेंद्र सिंह, मुख्य आरक्षी हबीब सिद्दीकी सहित अन्य पुलिसकर्मी लालगंज के अतरैला शिवगुलाम से कुछ दूर पहले पहुंचकर तस्करों का इंतजार करने लगे। इसी बीच एक कार आते दिखा। जिसे रोककर कार चालक अरुण कुमार सिंह को पकड़ लिया। जबकि उसमें सवार दूसरा आरोपित भागने में सफल रहा। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि उन लोगों का गांजा तस्करी का एक सक्रिय गिरोह है, जो ओडिशा से गांजा लाकर उत्तर प्रदेश के विभिन्न जनपद में ऊंचे दामों में बेचता है। वह आजमगढ़ के गुलामी का पुरा का महेश सोनकर के साथ मिलकर कारोबार करता है। बताया कि कार महेश सोनकर की है, जो अभी भाग गया है।

 

पुलिस को चकमा देने के लिए तस्कर कार में किए थे ये उपाय

 

पुलिस को चकमा देने के लिए कार में आगे व पीछे की सीट के नीचे बनी विशेष जगह बनवाई गई थी, जिसके अंदर गांजे के पैकेट को रखकर उसपर लोहे की प्लेट लगाकर स्क्रू से कस दिया गया था। उसके ऊपर कार पावदान रखकर छिपाया गया था। धोखा देने के लिए ही राज्यवार कार का नंबर प्लेट भी बदल देते हैं। यह गांजा ओडिशा के उकाईपाली के रहने वाले रमेश नामक व्यक्ति से लेकर स्थानीय बाजार व आसपास के क्षेत्रों में बेचने के लिए लेकर जा रहे थे।

 

खबरें और भी हैं...