आतंकी हमले से पहले मुंबई के होटल में था तहव्वुर राणा, 26/11 मामले में चौथी चार्जशीट दायर

 

 

 

 

 

 

आतंकी हमले से पहले मुंबई के होटल में था तहव्वुर राणा, 26/11 मामले में चौथी चार्जशीट दायर

प्रधान संपादक आशीष सिंह

26/11 मुंबई आतंकी हमले के मामले में पाकिस्तानी मूल के कनाडाई व्यवसायी तहव्वुर राणा के खिलाफ दायर एक पूरक आरोप पत्र  में मुंबई पुलिस अपराध शाखा (Mumbai Police Crime Branch) ने कहा है कि वह आतंकवादी हमलों से कुछ दिन पहले तक शहर के एक पांच सितारा होटल (5 Star Hotel) में रह रहा था।
26/11 मुंबई आतंकी हमला मामले में दायर यह चौथी चार्जशीट है।

26/11 आतंकी हमला मामले में चौथी चार्जशीट दायर, 405 पन्नों में पुख्ता सबूतों की लिस्ट

सोमवार को दायर 405 पन्नों की चार्जशीट के अनुसार तहव्वुर राणा ने 11 नवंबर से 21 नवंबर, 2008 तक अपने नाम पर होटल का कमरा बुक किया था। जबकि मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक डेविड हेडली की भारत यात्रा का दस्तावेजीकरण किया गया था, पुलिस ने ऐसा नहीं किया था। तहव्वुर राणा के अब तक शहर में रहने के पुख्ता सबूत हासिल किए। 62 वर्षीय राणा पर गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA), भारतीय दंड संहिता (IPC) और विस्फोटक अधिनियम (Explosive Act) सहित अन्य कानूनों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

फिलहाल अमेरिका में हिरासत में हैं तहव्वुर राणा, भारत प्रत्यर्पण पर कोर्ट की रोक

तहव्वुर राणा फिलहाल अमेरिका में पुलिस की हिरासत में हैं। इस साल मई में एक अमेरिकी अदालत ने उसके भारत प्रत्यर्पण का मार्ग प्रशस्त कर दिया था, लेकिन राणा ने आदेश के खिलाफ अपील की और अपनी अपील पर सुनवाई होने तक भारत प्रत्यर्पण पर रोक लगाने की मांग की। कोर्ट की ओर से पिछले महीने उसे स्टे दे दिया गया था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘चार्जशीट में पुलिस ने पासपोर्ट और अन्य दस्तावेजों की स्कैन की गई प्रतिलिपि जैसे विवरण प्रदान किए हैं, जो राणा ने पवई के होटल को दिए थे। राणा वहां 11-21 नवंबर के बीच रुका था। यह साबित करने के लिए कि उसने आतंकी हमलों से पांच दिन पहले देश छोड़ दिया था।’

आतंकी हमले से पहले मुंबई के पांच सितारा होटल में 10 दिनों तक रुका था राणा

तहव्वुर राणा के ठहरने के बारे में सबूत इकट्ठा करने में देरी के बारे में पूछे जाने पर वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘कागजी कार्रवाई के दौरान हमने पाया कि गवाहों में से एक ने नवंबर 2008 में मुंबई में तहव्वुर राणा से मुलाकात के बारे में बात की थी। हमने उससे दोबारा पूछताछ की और आगे की जांच के आधार पर हमने पाया कि वह (राणा) शहर के एक पांच सितारा होटल में लगभग 10 दिनों तक रुका था। होटल ने डेटा को डिजिटल रूप से संग्रहीत किया था। उसने पाया कि राणा ने अन्य विवरणों के साथ अपने पासपोर्ट की एक प्रति जमा की थी… ये विवरण आरोप पत्र में शामिल थे।’

मुंबई के बाद दुबई, फिर वहां से चीन और आखिरकार शिकागो गया तहव्वुर राणा

अधिकारी ने कहा कि मुंबई छोड़ने के बाद तहव्वुर राणा दुबई चला गया। वह फिर वहां से चीन और आखिरकार शिकागो चला गया। अधिकारी ने कहा, ‘हेडली की ओर से राणा को भेजे गए ई-मेल भी आरोप पत्र का हिस्सा हैं। एक मेल में उसने राणा से पूछा कि शिव सेना कार्यकर्ता राजाराम रेगे के बारे में क्या किया जाना चाहिए, जिससे हेडली ने पर्यटक होने का दावा करके मदद मांगी थी। राणा को दूसरे ईमेल में, उसने आईएसआई से ‘मेजर इकबाल’ का ईमेल पता जोड़ा और राणा से पूछा कि रेगे के साथ क्या किया जाना है, इसके बारे में उससे जांच करें। इससे साबित होता है कि राणा को 26/11 हमले के बारे में जानकारी थी।’

हेडली और राणा द्वारा एक साथ की गई अंतरराष्ट्रीय यात्राओं के बारे में विवरण मौजूद

अधिकारी ने कहा कि उन्होंने निकटता साबित करने के लिए हेडली और राणा द्वारा एक साथ की गई अंतरराष्ट्रीय यात्राओं के बारे में विवरण भी जोड़ा है। अमेरिकी मां और पाकिस्तानी पिता से जन्मे अमेरिकी नागरिक डेविड हेडली को अमेरिकी अधिकारियों ने अक्टूबर 2009 में गिरफ्तार किया था और मुंबई हमलों में शामिल होने के लिए 35 साल जेल की सजा सुनाई थी। जांच के अनुसार, तहव्वुर राणा की कंसल्टेंसी फर्म, जिसे फर्स्ट वर्ल्ड इमिग्रेशन सर्विसेज कहा जाता है ने संभावित आतंकी लक्ष्यों की पहचान करने और उन पर निगरानी रखने के लिए हेडली को कवर मुहैया कराया था।

खबरें और भी हैं...